कट कॉपी पेस्ट और हम

द्वारा मयूर On 5:58 PM



पिछले तीन चार सालों से जब से मैं इन्टरनेट और ब्लॉग आदि चीजों को पड़ रहा हूँ तब से ही कॉपी पेस्ट की आदत पड़ती जा रही है, आव देखा न ताव , कुछ भी उठाया और कॉपी पेस्ट ,वस्तु और विषय की मौलिकता की तो चिंता ही नही है और इन्टरनेट की दुनिया इतनी बड़ी है के जिसके घर चोरी हुई है उसे पता भी नही चलता की क्या हुआ है । क्या चाहिए आपको , प्रेजेंटेशन बनाना है , असैन्मेंट बनाना है , या की अख़बार के लिए न्यूज़ इकट्ठी करनी है कट कॉपी पेस्ट और आपका कंटेंट तैयार है , यह तो ठीक २ मिनट नूडल्स की तरह हो गया । पानी मैं डाला उबला और हो गया , आपका मसालेदार खाद्य तैयार है । इन्टरनेट जहाँ कई चीजों के लिए बहुत फायेदे मंद है वहीँ मौलिकता को इससे कई गुना नुकसान भी हुआ है ,अमेरिका मैं तो इन्तेलेक्टुअल प्रोपर्टी राइट भी बना लिया गया है पर फिर भी इन्टरनेट पर पब्लिशिंग इतनी सुरक्षित नही हुई है । मेरे एक ब्लॉगर साथी की राय में तो यह अपराध है और ब्लॉग से कुछ भी कॉपी करने वालों को बे लोग कर देना चाहिए । अबी हाल ही में एक ब्लॉग और एक न्यूज़ वेबसाइट को पड़कर पता चला की उनकी एक आर्टिकल में टाइटल के अलावा कुछ भी अलग नही था , अब यह तो वोह ही जाने की किसने कहाँ से कंटेंट चुराया है । खैर हम भी एक दम साफ सुधरे नही हैं बहुत कुछ हमने भी इधर उधर से लिया है ।

फिर मिलते हैं वंदे मातरम

1 Comment

  1. sourabh Said,

    mere sathi ne teen salon tak hamare dwara tane sun sun kar aaj CUT,COPY,PASTE par apne vichr prakat kar hi diye. achha hai ye cartoon bhi cut copy paste k karan hi aapko dikh raha hai. assignment, presentation bhi humne bahut copy paste kiye. kyuki hum mante hai ki CREATIVITY IS CREATION NOT REPRODUCTION. to dost koi baat nahi maulikta ki chinta mat karo yar..ye sab to chalta rehta hai.
    lage raho........

    Posted on June 20, 2008 at 10:44 PM